"कार्य ही पूजा है/कर्मण्येव अधिकारस्य मा फलेषु कदाचना" दृष्टान्त का पालन होता नहीं,या होने नहीं दिया जाता जो करते हैं उन्हें प्रोत्साहन की जगह तिरस्कार का दंड भुगतना पड़ता है आजीविका के लिए कुछ लोग व्यवसाय, उद्योग, कृषि से जुडे, कुछ सेवारत हैंरेल, रक्षा सभी का दर्द उपलब्धि, तथा परिस्थितियों सहित कार्यक्षेत्र का दर्पण तिलक..(निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र-तिलक संपादक युगदर्पण 09911111611, 09999777358

बिकाऊ मीडिया -व हमारा भविष्य

: : : क्या आप मानते हैं कि अपराध का महिमामंडन करते अश्लील, नकारात्मक 40 पृष्ठ के रद्दी समाचार; जिन्हे शीर्षक देख रद्दी में डाला जाता है। हमारी सोच, पठनीयता, चरित्र, चिंतन सहित भविष्य को नकारात्मकता देते हैं। फिर उसे केवल इसलिए लिया जाये, कि 40 पृष्ठ की रद्दी से क्रय मूल्य निकल आयेगा ? कभी इसका विचार किया है कि यह सब इस देश या हमारा अपना भविष्य रद्दी करता है? इसका एक ही विकल्प -सार्थक, सटीक, सुघड़, सुस्पष्ट व सकारात्मक राष्ट्रवादी मीडिया, YDMS, आइयें, इस के लिये संकल्प लें: शर्मनिरपेक्ष मैकालेवादी बिकाऊ मीडिया द्वारा समाज को भटकने से रोकें; जागते रहो, जगाते रहो।।: : नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक विकल्प का सार्थक संकल्प - (विविध विषयों के 28 ब्लाग, 5 चेनल व अन्य सूत्र) की एक वैश्विक पहचान है। आप चाहें तो आप भी बन सकते हैं, इसके समर्थक, योगदानकर्ता, प्रचारक,Be a member -Supporter, contributor, promotional Team, युगदर्पण मीडिया समूह संपादक - तिलक.धन्यवाद YDMS. 9911111611: :

Tuesday, December 6, 2011

गूगल-भारत का अपनी सामग्री नीति पर स्पष्टीकरण (हिंदी अनुवाद)

बस, क्योंकि यह सामग्री विवादास्पद है, इससे नहीं हटायेंगे :गूगल    (साभार प्रस्तुति)   

नई दिल्ली: ऑनलाइन सामग्री विनियमन पर उग्र विवाद के बीच, इंटरनेट खोज अग्रणी गूगल भारत ने मंगलवार को कहा कि वह देश के कानून के अनुपालन के साथ है, किन्तु किसी भी सामग्री को बस इससे नहीं हटायेंगे क्योंकि यह सामग्री विवादास्पद है :गूगल 
"कानून के पालन के साथ ही उपयोगी जानकारी लोगों तक पहुचना यथासंभव सुनिश्चित करने हेतु वास्तव में हम कठिन काम करने में विश्वास करते है इसका अर्थ यह है कि जब सामग्री गैरकानूनी है, हम स्थानीय कानून का पालन करते है और इसे हटा देते हैं ..
यहां तक ​​कि जहां सामग्री कानूनी है किन्तु हमारे स्वयं के नियम और शर्तों का उल्लंघन करती है या तोड़ती है; एक बार हमें इसके बारे में अधिसूचित किया गया है, हम उसे भी हटा देते हैं," गूगल के एक प्रवक्ता ने कहा 
Won
"किन्तु जब सामग्री कानूनी है और हमारी नीतियों का उल्लंघन नहीं होता, हम केवल इसलिए नहीं हटाते है कि यह विवादास्पद है हम मानते हैं कि लोगों के विचार भिन्न होकर यदि वे कानूनी सही हैंसंरक्षित और सम्मान किया जाना चाहिए" प्रवक्ता ने कहा  
केंद्रीय दूरसंचार मंत्री कपिल सिब्बल ने आज गूगल और फेसबुक जैसे सामाजिक वेबसाइटों से सुनिश्चित करने को कहा कि अपमानजनक ऑनलाइन सामग्री के अपलोड बंद कर दिया है। कपिल सिब्बल ने कहा कि सरकार तो हस्तक्षेप नहीं चाहती है किन्तु यदि सामाजिक नेटवर्किंग साइट सहयोग करने को तैयार नहीं हैं, "तो आवश्यक कदम के बारे में सोचना यह सरकार का कर्तव्य है " सरकार ने गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, फेसबुक और याहू के अधिकारियों से मुलाकात की, विशेष रूप से पिछले कुछ सप्ताह से इंटरनेट पर कांग्रेस नेता सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के विरुद्ध आक्रामक सामग्री के बाद 
अग्रणी खोज इंजन याहू ने मंत्री के विचारों पर टिप्पणी करने से मना कर दिया, जबकि माइक्रोसॉफ्ट के अधिकारी टिप्पणी के लिए उपलब्ध नहीं थे
'सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक', देश में जिसके 25 लाख से अधिक उपयोगकर्ता है, ने कहा है कि यह धमकी देने, घृणा, हिंसा  नग्नता फ़ैलाने वाली किसी भी सामग्री को निकाल है उस की सेवा बंद कर देंगे, ऐसा उनकी शर्तों में भी दिया है
"अपमानजनक सामग्री ऑनलाइन उपलब्धता न्यूनतम करने में सरकारी रूचि हम स्वीकारते है और भारतीय अधिकारियों के साथ इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर बहस के रूप में सरकार से चर्चा जारी रखेंगे" फेसबुक ने एक बयान में कहा बयान में आगे कहा: "हम फेसबुक एक ऐसी जगह है जहां लोग दूसरों की भावनाओं और अधिकार को सम्मान देते हुए, मुद्दों पर स्वतंत्र रूप से चर्चा चाहते हैं, कर सकते हैं । इसलिए हमारी साइट पर पहले से ही नीतियों में जगह और लोगों को अपमानजनक सामग्री रिपोर्ट करने के लिए सक्षम सुविधाएं है"
सिब्बल ने कहा है 'साइटों में से कुछ पोस्ट पर सामग्री इतना आक्रामक थी कि यह देश में समुदायों के एक बड़े वर्ग की धार्मिक भावनाओं को चोट पहुंचाती होगी । '
नोट: पाठक इसे पढ़ कर बताएं, सरकार व मंत्री जी का चरित्र, इतिहास और उपरोक्त से आपको क्या लगता है ? :
मंत्री की चिंता का कारण किसी की धार्मिक भावनाओं को चोट है अथवा इंटरनेट पर कांग्रेस नेता सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के विरुद्ध आक्रामक सामग्री । 
धार्मिक भावनाओं की चिंता के पर्दे के पीछे की राजनैतिक चिंता की ओर देश के शीर्ष मिडिया ने देखने व दिखने का प्रयास किया ?
आइये आप और हम मिलकर इसे सब तक पहुंचाएं । साथ ही सब मिलकर सरकार की (बदनीयती)चाल फेसबुक को समझाएं 
हम सच को छुपाते नहीं, छुपाये जा रहे सच को प्रकाश में लाते हैं -संपादक युग दर्पण 
0 comments 
हम जो भी कार्य करते हैं परिवार/काम धंधे के लिए करते हैं 
देश की बिगडती दशा व दिशा की ओर कोई नहीं देखता 
आओ मिलकर इसे बनायें -तिलक